Surya Kumar Yadav

Surya Kumar Yadav : भारत को वर्ल्ड कप दिलाएगा सूर्यकुमार यादव।

भारत को वर्ल्ड कप दिलाएगा सूर्यकुमार यादव।

साल था 2010 और सूर्यकुमार यादव ने घरेलू क्रिकेट में मुंबई की तरफ से तूफान मचा दिया था। परिणाम यह हुआ कि 2011 में मुंबई इंडियंस ने उसे खुद से जोड़ लिया। बीसीसीआई और चयनकर्ताओं की मेहरबानी देखिए कि उसे 10 साल तक टीम इंडिया में खेलने का मौका नहीं दिया गया। जब सूर्या के शॉट्स के शोर ने समूची दुनिया को दंग कर दिया तो फिर जाकर मार्च 2021 में उसे 31 साल की उम्र में भारत की तरफ से डेब्यू करने का मौका मिला।

सूर्यकुमार यादव ने 20 साल की उम्र में 2010 में रणजी में डेब्यू किया था। उस मैच में उनके साथ भारतीय कप्तान रोहित शर्मा बल्लेबाजी कर रहे थे। इस मैच में सूर्या ने 73 रनों की पारी खेली और टॉप स्कोरर भी रहे। इसके बाद अगले ही साल 2011-12 के रणजी सीजन में 754 रन जड़कर मुंबई की टीम में अपनी जगह पक्की कर ली और इसके बाद लगातार घरेलू क्रिकेट में रन बनाते रहे। सूर्यकुमार यादव ने 2013 में अंडर-23 एशिया कप खेला था। 

Surya Kumar Yadav
Surya Kumar Yadav

सूर्या के साथ उस समय अक्षर पटेल, केएल राहुल, जसप्रीत बुमराह खेल चुके थे। ये सभी खिलाड़ी सूर्या से पहले भारतीय टीम के लिए डेब्यू कर चुके थे। सूर्या का नाम चयनकर्ताओं के लिस्ट में ही नहीं आ रहा था। 2018, 2019 और 2020 के आईपीएल सीजन में सूर्या ने 512, 424 और 480 रन बना दिए। 2018 के IPL में वो सबसे महंगे अनकैप्ड खिलाड़ी बने। तब MI ने उन्हें 3.2 करोड़ रुपये में खरीदा था।

भारतीय टीम में 2021 में जगह पक्की करने के लगभग 1 साल के भीतर सूर्यकुमार यादव T-20 इंटरनेशनल में दुनिया का नंबर वन बल्लेबाज बन गया। जिंबाब्वे के खिलाफ 25 गेंदों पर 244 की स्ट्राइक रेट से 61* रनों की खिलाफ तूफानी पारी खेल कर भारत की तरफ से एक कैलेंडर ईयर में 1000 T20 इंटरनेशनल रन बनाने वाला पहला बल्लेबाज भी सूर्या बन गया। इससे पहले 2021 में सिर्फ और सिर्फ मोहम्मद रिजवान ऐसा कर सके थे। वह भी औपनिंग करते हुए और बहुत ही धीमी स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करते हैं लेकिन सूर्या का स्ट्राइक रेट हमेशा 200 के ऊपर का रहता है। 

सोचिए कि अगर 21 वर्ष की उम्र में सूर्यकुमार यादव ने भारत के लिए खेलना शुरू कर दिया होता तो दुनिया का कौन सा रिकॉर्ड वह नहीं तोड़ देता। जिन वर्षो में एबी डीविलियर्स इंटरनेशनल क्रिकेट में कोहराम मचा रहे थे और मिस्टर 360 डिग्री प्लेयर का खिताब पा रहे थे, उन वर्षों में सूर्यकुमार यादव के टैलेंट को घरेलू क्रिकेट में बर्बाद किया जा रहा था। सब कुछ कर लेने के बाद भी उन्हें टीम इंडिया में मौका नहीं दिया जा रहा था। सूर्या ने तो उम्मीद लगभग छोड़ दी थी लेकिन फिर उनकी पत्नी ने 2016 में शादी के बाद हौसला बनाए रखा। 10 साल के कठिन संघर्ष के बाद इस बल्लेबाज ने सफलता का स्वाद चखा। 

एबी डी विलियर्स 360 डिग्री खिलाड़ी हैं और दुनिया भर में उनके करोड़ों चाहने वाले हैं। पर सूर्यकुमार यादव 720 डिग्री खिलाड़ी है क्योंकि उसने भीषण संघर्ष के बाद यह मुकाम बनाया है। हर बड़े टूर्नामेंट में अपने बल्ले का जौहर दिखाया है।

यूं ही लगातार मचाएगा अपने बल्ले से तांडव

भारत को वर्ल्ड कप दिलाएगा सूर्यकुमार यादव।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: खुद लिखो तब कुछ कर पायेगा Life में।